ghevar malai vala

Festival Special / how to make Ghevar recipe / जालीदार रबड़ी वाला घेवर इन हिंदी

Ghevar -घेवर

घेवर राजस्थान की बहुत ही स्‍वादिष्‍ट मिठाई है, और इसे छप्‍पन भोग के अंदर ही गिना जाता है. सावन में घेवर खासतौर पर बनाया जाता है ऐसा कहा जाता है कि सावन माह घेवर के बिना अधूरा होता है. सावन के महीने की सबसे स्‍पेेशल मिठाई (special mithai) होती है ,लेकिन सावन के साथ साथ हम इसे दिवाली(diwali)गणेश चतुर्थी (गणेश चाठुर्थी) जैसे किसी भी त्यौहार पर आसानी से घर पर बना सकते हैं,बाजारों में ये आसानी से मिल जाता है लेकिन कुछ ऐसे शहर हैं जहाँ घेवर मुश्किल से मिलता है ऐसे में आप घर पर आसानी से इसे बना सकते हैं,दिखने में एसा लगता है कि इसे बनाना मुश्किल होगा लेकिन है बड़ा आसान. तो आईये सीखते है घेवर बनाने की विधि – Ghevar Recipe in hindi.

Ingredients For Ghevar-घेवर बनाने की सामिग्री

  • दूध                                                   – 3 टेबलस्पून 
  • पानी                                                – 1 कप/अवश्कतानुसार
  • घी                                                    – 3 टेबल स्पून (घोल तैयार करने के लिए)
  • बर्फ के टुकड़े                                    – २-3
  • मैंदा                                                  – 1 कप
  • घी                                                     – तलने के लिए
  • dry फ्रूट्स(सूखे मेवे)                       – सजावट के लिए

चाशनी बनाने के लिए-

  • चीनी                                               – 2 कप
  • पानी                                                – 1 कप
  • घी(वैकल्पिक)                                 – 2 टीस्पून
  • दूध(चाशनी साफ करने के लिए)     – 2 टेबल स्पून

रबड़ी बनाने के लिए-

  • दूध                                                  – 1 कप
  • चीनी                                                – 3 टेबल स्पून
  • मिल्कमेड(वैकल्पिक)                      – 100gm (अगर मिल्कमेड डाल रहे हो तो चीनी नहीं डालनी)
  • इलायची पाउडर                               – 1 टीस्पून 

    How to make Ghevar-घेवर बनाने की विधि

  • किसी बड़े बर्तन में घी + बर्फ के टुकड़े डाल कर खूब फैटिये,जब तक फैटिये जब तक देशी घी एकदम चिकनी क्रीम की तरह न हो जाये|
  • घी जब अच्छी तरह चिकना हो जाये तो बर्फ के क्यूब्स निकाल दे और एक्स्ट्रा पानी निकाल दें|
  • फैटे हुये देशी घी में मैदा को २ भागों में कर लीजिये,अब मैंदा का पहला भाग डालते जाइये और फैटते जाइये|
  • पहला भाग फेटने के बाद मैंदा का दूसरा भाग डालकर फेटें|
  • यह घोल गाढ़ा हो जाये तो उसमे दूध मिला दीजिये और फेटें|
  • अब थोड़ा थोड़ा एक दम ठंडा पानी डाल कर खूब फैटिये और एकदम चिकना घोल तैयार करें|
  • ध्यान रहे कि घोल में गुठली नहीं रहे और घोल एकदम चिकना हो|
  • घेवर का घोल एकदम पतला होना चहिये जिससे की चमचे से घोल गिराने पर घोल पतली धार बनकर गिरे|
  • किसी छोटी/मध्यम आकार की भगोनी में करीब आधा से कम ऊचाई तक देसी घी भर कर गरम कीजिये|
  • घी अच्छी तरह धुएं वाला गरम होने पर यानी मैदा की कोई भी बूंद घी में गिरे तो वह तुरन्त ऊपर उठकर तैरने लगे|
  • ऐसा घी गर्म होने पर मैदा का घोल किसी चमचे में 1/२ चमचा घोल बहुत ही पतली धार से इस गरम घी में डालिये|
  • घोल डालने पर घी से उठे झाग ऊपर दिखाई देने लगेंगे|
  • जब झाग कम हो जाए अब फिर से दूसरा आधा चमचा घोल भरकर बिलकुल पतली धार से घोल घी में डालिये|
  • इसी तरह घोल डालते रहे आप जितना बड़ा घेवर बनाना चाहते हैं|
  • मैंने 7-8 बार डाला था|
  • जब पर्याप्त घोल डाल चुके तब गैस की फ्लेम मीडियम कर दीजिये|
  • मीडियम आग पर हल्का सुनहरा  होने तक सेकिये|
  • सेकने के बाद घेवर को किसी स्टैंड पर थाली में निकाल लें |
  • ताकि अतिरिक्त घी थाली में नीचे की ओर निकल कर आ जाये|

चाशनी बनाने के लिए-

  • कढ़ाई में 1 कप पानी डालें|
  • इसमें २ 1/२ कप चीनी डालकर तेज़ आंच पर पकाएं|
  • चीनी घुलने के बाद,चाशनी को साफ करने के लिए २ टेबलस्पून दूध डालकर
  • चाशनी को बिना चलाये 1/२ min बाद साइड से कर्चाली की सहायता से जमा हुई कलोची/गंदगी को निकाल दें|
  • चाशनी में २ टेबलस्पून घी डालदें|(यह वैकल्पिक है)
  • एक बूंद चाशनी 1/२ कटोरी पानी में डालकर देखें|
  • अगर चाशनी कटोरी की तली में जम जाये तो मतलब चाशनी तैयार है|

राबड़ी बनाने के लिए-

  • दूध को कढ़ाई में डालकर तेज़ आंच पर उबाल लें|
  • उबाल आने के बाद दूध को 1 कप से 1/२ कप होने तक मध्यम आंच पर पकने दें|
  • जब दूध गाढ़ा हो जाये तो इलायची पाउडर डालें|
  • अब मिल्कमेड डालकर मिक्स करें और २-3 min पकने दें|
  • जब रबड़ी गाढ़ी हो जाये तो गैस बंद कर दें|
  • अगर ठंडा होने के बाद रबड़ी गाढ़ी हो जाये तो थोडा सा ठंडा दूध डालकर पतला कर सकती हैं|

घेवर तैयार करने की विधि-

  1. स्टैंड पर थाली में रखे घेवर के ऊपर चाशनी को चमचे से घेवर के ऊपर फैलाते हुये डालें|
  2. चाशनी घेवर को मीठा करती हुई नीचे निकल जाती है|
  3. आपको घेवर ज्यादा या कम जैसा मीठा करना हो उस हिसाब से चाशनी डालते जाइये|
  4. चाशनी डालने के बाद तैयार रबड़ी को घेवर के ऊपर अच्छे से फेलायें|
  5. इसके बाद कटे हुये मनचाहे मेवे से घेवर को सजाएँ और परोसें|

टिप्स-सुझाव

  • घेवर बनाने के लिए भगोना या कढ़ाई जो भी लें वो भारी तले व गहरी होनी चाहिये|
  • घेवर का घोल गरम घी में डालते ही एकदम ऊपर आता है,
  • कम गहरा बर्तन होने से गरम घी निकल कर गैस के ऊपर आ सकता है|
  • घेवर का घोल बनाने में दूध व पानी दोनो एक दम ठन्डे होने चाहिये|
  • घोल तैयार होने के बाद ,घोल के बर्तन को बर्फ या एक दम ठन्डे पानी से भरे बड़े बर्तन में ही रखें,
  • क्युकी घी में डालते समय घोल ठंडा ही होना चाहिये,तभी घेवर अच्छा बनेगा|
  • घेवर का घोल बनाते समय पानी को थोडा थोडा करके घोल में मिलाएं,
  • एक साथ पानी डालने से घोल में गाठें पड़ जाएँगी|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *